BSSC दरोगा बहाली में भी हुआ खेल…

फाइल फोटो बिहार में परीक्षा बस एक मजाक बनकर रह गया है. कोई भी परीक्षा होता है उसमें पेपर लीक से लेकर कई तरह की धांधली नजर आती है. अब ईटीवी/ न्यूज18 मे...

सृजन घोटाले में नीतीश सरकार पर समाजिक कार्यकर्त्ता ने किया सनसनीखेज खुलासा!
एसएसपी मनु महाराज समेत कई पुलिसकर्मियों को इस कार्य के लिये किया गया सम्मानित
स्टेशन पर अवैध वसूली कर रहे जीआरपी का विडियो पहुंचा प्रभु के पास, तो उन्होंने उठाया यह कदम
BSSC

फाइल फोटो

बिहार में परीक्षा बस एक मजाक बनकर रह गया है. कोई भी परीक्षा होता है उसमें पेपर लीक से लेकर कई तरह की धांधली नजर आती है. अब ईटीवी/ न्यूज18 में छपी रिपोर्ट के अनुसार दारोगा की परीक्षा में भी बड़े पैमाने पर धांधली हुई है. उनके रिपोर्ट के अनुसार जिस कैंडिडेट को दारोगा परीक्षा में शामिल होने से रिजेक्ट कर दिया गया था, उन्हें दारोगा के फाइनल रिजल्ट में पास कर दिया गया. वाह!! गजब!

आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में केस के बाद एक से अधिक जगहों से फॉर्म भरने वाले अभ्यर्थियों की उम्मीदवारी रद्द कर दी गई थी. दरअसल, 1 सितंबर 2017 को दारोगा परीक्षा का अंतिम रिजल्ट जारी हुआ है जिसमे 97 छात्रो को अंतिम रूप से दारोगा के लिए चयन किया गया है. इस रिजल्ट में दो रॉल नंबर ऐसे है जिसकी उम्मीदवारी पहले ही रद्द कर दी गई थी.

प्राप्त जानकारी के मुताबिक माला (रॉल नंबर-C02478) और रश्मि (रॉल नंबर-B00019) को पास कर दिया गया जबकि इन दोनों की उम्मीदवारी पहले रद्द कर दी गई थी.

रिपोर्ट के अनुसार खुद दारोगा परीक्षा के अभ्यर्थीयों ने इस बात की खुलासा की है. दारोगा अभ्यर्थी विभा का कहना है कि दारोगा भर्ती में लाखों की लेन देन और पैरवी हुई है. आखिर कैसे वैसे उम्मीदवारों को पास कर दिया गया जिन्हें रिजेक्ट कर दिया था. दूसरे अभ्यर्थी मुकेश का कहना है कि BSCC हर बार किसी न किसी घोटाले में फंस जाता है. कोई भी परीक्षा सफलतापूर्वक करानेे में आयोग असफल रहा है.

इस पूरे मामले में जब हमने बिहार कर्मचारी आयोग से पक्ष जानना चाहा तो आयोग के सचिव योगेंद्र पासवान ने अपना बचाव किया. उन्होंने कहा कि हमें ये पता ही नहीं की कौन रिजेक्ट है और कौन नहीं.

इस न्यूज़ को शेयर करे तथा कमेंट कर अपनी राय दे.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0